ऍफ़यूई  और ऍफ़यूटी क्या खास अंतर है ?

ऍफ़यूई और ऍफ़यूटी क्या खास अंतर है ?

इन दोनों टेक्नीक्स में कोई बहुत जायदा अंतर नहीं है बल्कि ऍफ़यूई, ऍफ़यूटी का ही एक सुधरा हुआ रूप है | दोनों तकनीकों में उपचार एक ही है और उसे करने की विधि में थोड़ा सा फरक है | मूल रूप में दोनों तकनीकों में ही बालों को उनके मूल स्थान से निकल आकर नए स्थान पर लगया जाता है |

ऍफ़यूई में सिर किसी भी जगह बक निकले जा सकते है बशर्ते की बालो की गुणवत्ता अच्छी हो | यह कोई खास मापदंड नहीं है की जहा से एक बाल निकाला गया है वहीँ से ही दूसरा निकला जाये| सिर के अलगअलग हिस्सों से अलगअलग बाल निकले जा सकते है , जैसे कुछ बाल आगे से कुछ बाल पीछे से | वहीँ ऍफ़यूटी तकनीक में सिर के बालों को अलग अलग न निकाल कर किसी भी एक हिस्से से इकठे निकाल लिए है | उसके बाद उस पट्टी से बालों को निकाल कर उनकी जगह प्रत्यारोपित किया जाता है |

ऍफ़यूई तकनीक में आपको कोई भी तकलीफ मेहसूस नहीं होती और ऍफ़यूटी में आपको तकलीफ होती है लेकिन बहुत काम होती है | आप आराम से सेहन कर सकते हैं |

हालाँकि सब कुछ आपकी त्वचा पर निर्भर करता है फिर भी अगर अपने ऍफ़यूई करवाई है तो एक या दो दिन में आपकी त्वचा पर से लालिमा चली जाती है और निशान एक हफ्ते में चले जाते हैं वही पर अगर अपने ऍफ़यूटी परीक्षण लिया है तो आपके बाल निकलने के स्थान पर भी निशान रहेगें को की काफी समय लेते है ठीक होने ने |

ऍफ़यूई में आप दो से तीन दिन तक कोई भारी काम नहीं कर सकते , दूसरी तरफ ऍफ़यूटी में आपको एक सप्ताह तक जोरदार कामो से दूर रहना पड़ सकता है |

ऍफ़यूई के बाद आपको थोड़ी बहुत परेशानी हो सकती है लेकिन ऍफ़यूटी के बाद आपको काफी समय तक दर्द रहता है जो की बाद में दर्दनाशक दावों से दूर किया जाता है |

ऍफ़यूटी में उपचार के बाद टांके लगये जाते हैं | जिसके कारन आप लोग केश प्रत्यारोपण से डरते हैं . हालंकि इन सबका उपचार आज कल हो जाता है लेकिन फिर भी दर्द से हर कोई बचना चाहता है | वहीँ ऍफ़यआई के कोई घाव नहीं होता इसी कारन उसे अच्छा माना जाता है |

नए तकनीक में बाल हमेशा सीधे और कुदरती दिशा में विकास करते हैं , लेकिन पुराणी विधि में बाल बहुत बार गलत दिशा में भी उग सकते हैं |

ऍफ़यूटी में सिर से जो बालों की पट्टी काटी जाती है . उस जगह पर जखम हो सकते है और वहां पर संक्रमण का खतरा भी रहता है |

आप अन्विर्य रूप से बालों को एक से दुस्तरी जगह अपर लागते हैं , ऐसा दोनों विधियों में होता है लेकिन फिर भी ऍफ़यूई तकनीक को अच्छा मन जाताहै है क्यूंकि इसमें खतरे बहुत काम है और बालों के बढ़ने आसार बहुत जायदा हैं | ऍफ़यूई लोकप्रिय तकनीक इसी लिए है की यह अधिक प्रकिर्तिक दिखने वाले परिणाम पैदा करता है |